https://www.fapjunk.com https://pornohit.net london escort london escorts buy instagram followers buy tiktok followers
HomePOLITICSचुनाव आयोग ने किया बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान

चुनाव आयोग ने किया बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान

लखनऊ,संवाददाता | चुनाव आयोग ने शुक्रवार को बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान कर दिया है | मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि इससे पहले दिल्ली विधानसभा का चुनाव हुआ था और अब बिहार विधान सभा का चुनाव होने जा रहा है | उन्होंने कहा कि इस बीच माहौल बदल चूका है | पहले समान परिस्थितियों में चुनाव हुए थे लेकिन अब कोरोना वायरस के बीच यह चुनाव हो रहा है | कोविड-19 के दौर में बिहार विधानसभा का चुनाव दुनिया का सबसे बड़ा चुनाव है |उन्होंने बताया कि दुनिया के 70 देशों में चुनाव टाला गया है लेकिन हमने चुनाव कराने का फैसला लिया है |
बिहार में 3 चरणों में चुनाव होंगे | पहले चरण में 71 सीटों पर जबकि दूसरे चरण में 94 सीटों पर मतदान संपन्न होंगे | इसके अलावा तीसरे चरण में 78 सीटों पर मतदान संपन्न होगा | पहले चरण में 28 अक्टूबर को वोटिंग होगी जबकि दूसरे चरण में 3 नवंबर को मतदान होगा | तीसरे चरण में 7 नवंबर को मतदान होगा और 10 नवंबर को चुनाव के नतीजे घोषित किए जाएंगे | कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज आखिरी घंटे में वोट डालेंगे | 5 से अधिक लोग घर जाकर प्रचार नहीं कर सकेंगे और मतदान का समय 1 घंटे बढ़ाया गया है जबकि करोना मेरीजो के लिए अलग से व्यवस्था की जाएगी | चुनाव प्रचार मूल रूप से वर्चुअल ही होगा | डीएम छोटी रैली की जगह और वक्त तय करेंगे और हर पोलिंग बूथ पर साबुन ,सैनिटाइजर सहित सभी चीजों की व्यवस्था की जाएगी ,प्रत्याशी सिक्योरिटी डिपॉजिट ऑनलाइन जमा कराएंगे, सोशल मीडिया के इस्तेमाल पर सख्ती बधाई जाएगी, तनाव बढ़ाने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी यही नहीं हेट स्पीच देने वालों को भी नहीं बख्शा जाएगा | बिहार में कुल मतदाता 7 करोड़ 79 लाख है, जिनमे महिला मतदाताओं की संख्या 3 करोड़ 39 लाख बताई गई है | सुबह 7:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक वोटिंग होगी |
प्रत्याशी नामांकन ऑनलाइन और ऑफलाइन भर सकेंगे | एक बूथ पर सिर्फ 1000 मतदाता वोट डाल सकेंगे | चुनाव के दौरान फील्ड मास का इस्तेमाल किया जाएगा | बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में लगभग 7 करोड 29 लाख मतदाता अपने लोकतांत्रिक अधिकारों का प्रयोग करेंगे | इस बार विधानसभा चुनाव भी सोशल डिस्टेंसिंग के नियमों के तहत ही संपन्न कराए जाएंगे और कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए फेस मास्क हैंड, सैनिटाइजर, शरीर का तापमान मापने के इंतजाम पहले की तुलना में काफी ज्यादा संख्या में पोलिंग स्टेशन, सुरक्षाबलों की तैनाती, ईवीएम मशीन वाहन, मानवीय वा भौतिक संसाधनों का इंतजाम करना होगा | यही कारण है कि इस बार बिहार विधानसभा का चुनाव इसी के लिए काफी अहम और चुनौतियों से भरा होगा | कोरोना के बीच देश में यह पहला विधानसभा चुनाव है |इसलिए चुनाव आयोग ने कोविड-19 प्रोटोकॉल के मुताबिक गाइडलाइन पहले ही जारी कर दी है |इस बार मतदान केंद्रों की संख्या डेढ़ गुना से ज्यादा बढ़ा दी गई है | मतदान कर्मियों की संख्या भी बढ़ाई गई है जबकि हर मतदान केंद्र पर मतदाताओं की तादाद घटाकर सीमित की गई है | चुनाव आयोग ने 4 सितंबर को घोषणा कर बताया था कि बिहार विधानसभा चुनाव के एक साथ एक लोक सभा सीट सहित 65 लंबित उपचुनाव को भी कराने का फैसला लिया है | बिहार विधानसभा चुनाव 2015 की तुलना में इस बार बिहार का थोड़ा अलग होगा | बिहार में विधानसभा की कुल 243 विधानसभा सीटें हैं |मौजूदा वक्त में जेडीयू ,बीजेपी और एलजेपी गठबंधन की सरकार सत्ता में है | वर्तमान में आज की सबसे बड़ी पार्टी आरजेडी के पास 79 सीटें हैं |इसके अलावा जेडीयू के पास 71 ,बीजेपी के पास 52 , एलजेपी के पास दो, कांग्रेस के पास 27 ,सीपीएमएल के पास 3 , एआईएमआईएम 1 और खाली सीटें शामिल है |

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Must Read